वंडो

पोलीसिस्टिक किडनी डिसीज़​

किडनीअ जे मौरोसी (वरिसे में मिलंदड़​) बीमारियुनि में पोलीसिस्टिक किडनी डिसीज़ (पी.के.डी.) सभिनी खां वधीक नज़र ईंदड़ बीमारी आहे ।

किडनीअ जे मौरोसी (वरिसे में मिलंदड़​) बीमारियुनि में पोलीसिस्टिक किडनी डिसीज़ (पी.के.डी.) सभिनी खां वधीक नज़र ईंदड़ बीमारी आहे । हिन बीमारीअ में मुख्य असरि किडनीअ ते पवे थो ऐं बि॒न्ही किडनियुनि में सिस्ट (Cyst) (पाणियठु भरियल बुदुबदा) नज़र ईंदा आहिनि । क्रोनिक किडनी फेल्यर जे मुख्य कारणनि में हिकु कारण पी.के.डी. पिणु आहे । केतिरनि मरीज़नि में सिस्ट किडनीअ खां सवाइ ज़ेरो (Liver), आंडा, शीरदान​, बीजदानी (Ovaries), तिली (Spleen) ऐं मग़ज़ जी नलीअ ते पिणु असरि डि॒सण में ईंदा आहिनि ।

ओड़ोज़ोमल डोमीनन्ट पी.के.डी. जो अंदाज़ औरत​-मर्द ऐं अलग॒-अलग॒ ज़ातियुनि ऐं देश जे माण्हुनि में हिक जहिड़ो नज़र ईंदोओ आहे । अटिकल 1000 माण्हुनि मां हिक माण्हुअ में हीअ बीमारी नज़र ईंदी आहे । अटिकल 5% क्रोनिक किडनी फेल्यर जा मरीज़​, जिन खे डायालिसिज़या किडनी ट्रान्सप्लान्टेशन जी ज़रूरत पवंदी आहे , उन्हनि खे पी.के.डी. हूंदी आहे ।

पी.के.डी. में किडनीअ ते छा असर थींदो आहे ?

 

  • पी.के.डी. बीमारीअ में बि॒न्ही किडनियुनि में फूकिणा, बुदबुदनि सां भेटे सघिजनि अहिड़ा बेशुमार सिस्ट हूंदा आहिनि ।
  • अहिड़नि जुदा-जुदा मक़िदार बारनि सिस्ट में , नंढा सिस्ट रवाजी अखियुनि सां डि॒सी न सघिजनि, अेतिरा नंढा हूंदा आहिनि ऐं वड॒नि सिस्ट जो क़दु १० से.मी. खां बि वधीक क़तुर वारो पिणु थी सघे थो । वक़्त सां गडो॒गडु॒ अहिड़नि नंढनि वड॒नि सिस्ट जो क़दु (मक़िदार​) वधंदो वेंदो आहे , जंहिंजे करे किडनीअ जो क़दु वधंदो वेंदो आहे ।
  • इन वधंदड़ सिस्ट जे क़द जे करे किडनीअ जो कमु कंदड़ हिस्सनि ते दाबु॒ पवंदो आहे, जंहिं करे रतु जे दाबु॒ में इज़ाफ़ो ऐं किडनीअ जी कमु करण जी शक्ति आहिस्ते-आहिस्ते घटिजंदी वेंदी आहे ।
  • सालनि खां पोइ केतिरनि मरिज़नि जूं ब॒ई किडनियूं बिल्कुल ख़राब थी वेंदियूं आहिनि ऐं आख़िर में डायालिसिज़ या किडनी ट्रान्सप्लान्टेशन जी ज़रूरत पवंदी आहे ।

पी.के.डी. जूं निशानियूं कहिड़ियूं आहिनि ?

रवाजी तरह 30-40 सालनि जी उम्र ताईं घणे भाङे मरीज़नि में के बि निशानियूं न हूंदियूं आहिनि, उन खां पोइ नज़र ईंदड़ निशानियूं हेठीअं रीति आहिनि ।

  • रतु जो दाबु॒ वधी वञे ।
  • बि॒न्ही पासे पासनि में सूर पवणु, पेट में सूर , पेट में गं॒ढि थियणु, पेट सुजी॒ वडो॒ थियणु ।
  • पेशाब में रतु या प्रोटीन जो निकिरणु ।
  • पथिरी ऐं पेशाब में वक़्त -बि-वक़्त बीमारी Infection थियणु ।
  • बीमारीअ जे वधण सां क्रोनिक किडनी फेल्यर जूं निशानियूं डि॒सण में अचनि थियूं ।
  • शरीर जे बि॒यनि भाड़नि जहिड़ोक लिवर​, आंडा या दिमाग़ में सिस्ट हुअण जूं निशानियूं नज़र अचणु ।
  • पी.के.डी. जे मरीज़नि मेम ब्रेन अेन्युरीज़म​, हार्निया, लिवर में सिस्ट इन्फेक्शन​, आंडे में डायवर्टीक्युलाइ (Pouches) ऐं दिल में वाल्व जी तकलीफ जहिड़ियूं निशानियूं डि॒सण में अचनि थियूं ।
  • अटिकल १०% जेतरिन पी.के.डी. जे मरीज़नि में ब्रेइन अेन्युरीज़म थींदो आहे, जंहिं में रतु जूं नलियूं कमिज़ोर थी वेंदियूं आहिनि । ब्रेइन अेन्युरीज़म में मथे मेम सूर रहे थो ऐं उन में रतु जूं कमिज़ोर थी वियल नलियुनि जे फाटी पवण जो ख़तिरो रहे थो जंहिं में लकुवो (Stroke) ऐं मौत पिणु थी सघे थो ।

छा पी.के.डी. जो निदान थिअे, उन्हनि सभिनी माण्हुनि में किडनी फेल्यर थींदो आहे ?

न​, पी.के.डी. जो निदान थिए, उन्हनि सभिनी मरीज़नि में किडनी ख़राब न थींदी आहे । पी.के.डी. जे मरीज़नि में किडनी फेल्यर जो अंदाज़ ६० सालनि जी उम्र में ५०% ऐं ७० सालनि जी उम्र में ६०% मरीज़नि में डि॒सण में ईंदो आहे । जिनि मरीज़नि खे पी.के.डी. हूंदो आहे अहिड़नि मरीज़नि खे क्रोनिक किडनी डिसीज़ थियण जो ख़तिरो वधीक हूंदो आहे । ख़ास करे नंढी उम्र जा मर्द​- जिनि खे रतु जो ऊचो दाबु॒, पेशाब में प्रोटीन या रतु वेंदो हुजे या किडनी वडी॒ हुजे, अहिड़नि मरीज़नि में पिणु किडनी फेल्यर थियण जो इमिकान वधी वेंदो आहे ।

पी.के.डी. जो निदान कहिड़े नमूने थींदो आहे

  • किडनीअ जी सोनोग्राफी: सोनोग्राफीअ जी मदद सां पी.के.डी. जो निदान सविले नमूने घटि ख़र्च में पर तुज़ि नमूने करे सघिजे थो ।
  • सीटी या एम​.आर​.आई. स्केन : पी.के.डी. बीमारीअ में जेकड॒हिं सिस्ट जो क़दु तमामु नंढो हुजे त सोनोग्राफीअ जी तपास में का बि तकिलीफ नज़र न ईंदी आहे, इन स्टेज ते पी.के.डी जो तकिड़ो निदान सिटी स्केन वसीले थी सघंदो आहे । पर इहा टेस्ट महांगी हूंदी आहे ।

पी.के.डी. जी बीमारीअ में ४० सालनि जी उम्र में नज़र ईंदड़ मरीज़नि खे पेट में गं॒ढि ऐं पेशाब में रतु अचण जी शिकायत रहंदी आहे ।

कुटुंबजी जा॒ण (Family Screening): पी.के.डी. वरिसे वारी बीमारी आहे। जेकड॒हिं कुटुंब जे कंहिं हिक माण्हूअ में पी.के.डी. जो निदान थिअे त कुटुंब जे बि॒यनि भातियुनि में पिणु पी.के.डी. थियण जो इमिकान रहे थो ।

किडनीअ ते पी.के.डी. जो असर जा॒णण लाइ तपास​

 

  • पेशाब जी तपासः पेशाब जो Infection ऐं रतु जी हाज़िरी जा॒णण लाइ ।
  • रतु जी तपासः रतु में युरिया, क्रीअेटीनिन जो अंदाज़ ऐं किडनीअ जी कमु करण जी शक्तीअ जी जा॒॒ण लाइ ज़रूरी आहे ।
  • ओचितो निदान​ (Accidental diagnosis): पी.के.डी. जो रवाजी हेल्थ चेक​-अप दरम्यान या बि॒अे कंहिं सबब करे सोनोग्राफी कंदे ओचितो ई निदान थींदो आहे ।
  • जिनेटिक्स जी तपासः शरीर जी बनावत​, जीन याने क्रोमोज़ोम्स तय कंदा आहिनि । कुझ क्रोमोज़ोम्स जी ख़ामीअ जे करे पी.के.डी. बीमारी थींदी आहे। भविष्य में इन्हनि क्रोमोख़ोम्स जी हाज़िरीअ जो निदान ख़ास तपास ज़रिये थी सघंदो आहे, तंहिंकरे नंढी उम्र जे माण्हुअ में पिणु भविष्य मुताबिक (मुस्तक़बिल​) में पी.के.डी. जी बीमारी थी सघंदी या न​, इन जो तुज़ निदान थी सघंदो । हीअ तपास किनि ख़ास जगि॒हयुनि ते ई थींदी आहे ऐं तमाम ख़र्चाइती (महांगी) हुअण सबब निदान लाइ कड॒हिं ई कराइबी आङे ।

पी.के.डी. मरिज़ जे कुटुंब जे कहिड़नि भातियुनि जी तपास कराइणु ज़रूरी आहे?

 

  • पी.के.डी. मौरोसी बीमारी हुअण सबबु कुटुंब जे बि॒॒यनि भातियुनि के किडनीअ जी तपास कराइण ज़रूरी आहे
  • पी.के.डी. मरीज़ जे भाउ, भेण ऐं बा॒रनि जी तकिड़ी तपास (जांच​) कराइणु तमामु ज़रूरी आहे । वधीक माउ-पीउ ऐं भाउरनि ऐं भेनरुनि जी पिणु तपास कराइणु लाज़िमी बणिजी वेंदी आहे ।

छा पी.के.डी. मरीज़ जे हरहिक बा॒र खे हिन बीमारी थियण जो ख़तिरो रहंदो आहे?

बालिग़ अवस्था में नज़र ईंदड़ पी.के.डी. जी बीमारी आटोज़ोमल डोमोन्ट क़िसिम जी वरिसे में मिलंदड़ (मौरोसी) बीमारी आहे, जंहिं में मरीज़ जे ४०% यानी कुल औलादनि मां अधु औलादनि खे हीअ बीमारी थियण जो अंदोशो रहे थो ।

पी.के.डी. जे करे थींदड़ किडनी फेल्यर जा मसइला कहिड़े नमूने घटाअे सघिजनि था ?

पी.के.डी. इहा मौरोसी (Inherited) बिमारी आहे, जंहिं खे मिटाइण (दूर करण​) या रोकण जो को बि इलाज हीअंर मैसर न आहे ।

जेकड॒हिं कुटुंब जे कंहिं हिक माण्हुअ (शख़्सि) में पी.के.डी. जो निदान थिअे त हीअ बीमारी मौरोसी हुअण सबबु डाक्टर जी सलाह अनुसार बि॒यनि भातियुनि में सोनोग्राफी कराअे, इहा बीमारी आहे या न​, उन जी ख़ातिरी करे छड॒णु ज़रूरी आहे । सवेल ई निदान थियण सां पी.के.डी. जो सुठे नमुने इलाज कराइण जो मौक़ो मिले थो । तकिड़ो निदान ऐं रतु जे वधीक दाब॒ खे जेकड॒हिं वक़्तसिर क़ाबूअ में आंदो वञे त रीनाल फेल्यर थियण जो इमिकान घटिजी वञे थो । जीअण जो सही ढंग ऐं खाधे में परहेज़ पी.के.डी. जे मरीज़नि जी किडनी ऐं गडो॒गडु॒ दिल खे पिणु सलामत रखे थो । तकिड़े निदान लाइ हिक वडो॒ नुक़िसान इहो आहे त के बि निशानियूं न हुजनि या इलाज जी ज़रूरत न हुजे, उन हालत में बि मरीज़ हिन बीमारीअ बाबतु सोचे करे तमाम चिंता में पइजी वेंदो आहे ।

पी.के.डी. बीमारीअ जो प्रोपोरशन घटाअे छो नथो सघिजे ?

रवाजी नमूने पी.के.डी. बीमारीअ जो निदान थींदो आहे तड॒हिं मरीज़ जी उम्र ३५ खां ५५ सालनि जे आसपास हूंदी आहे । घणे भाड़े जे पी.के.डी. जे मरीज़नि में इन उम्र खां अगु॒ में ई बा॒र (औलाद​) थी विया हुजनि त बदक़िसिमतीअ सां पोइ जी आईंदह जी पीढ़हीअ में इन बीमारीअ खे थियण खां रोके नथो सघिजे ।

पी.के.डी. जो इलाजु

पी.के.डी. जी बीमारी मिटाअे (दूर करे) नथी सघिजे तंहिं हूंदे बि छा हिन बीमारीअ जो इलाजु ज़रूरी आहे ? छा ?

हा, इलाज सां बीमारी दूर न थींदी आहे तंहिं हूंदे बि योग्य इलाजु ज़रूरी आहे । तकिड़े ऐं योग्य इलाज सां किडनीअ खे थींदड़ नुक़िसान रोकण में ऐं किडनी ख़राब थियण जी रफितार घटाइण में ज़रूर मदद मिलंदी आहे ।

मुख्य इलाजु

  • निदान खां पोइ शुरूआत जे सालनि में पी.के.डी. जे मरीज़नि में के बि निशानियूं नज़र न ईंदियूं आहिनि, जंहिंकरे इलाज जी पिणु ज़रूरत न हूंदी आहे । पर अहिड़नि मरीज़नि में थोड़े-थोड़े वक़्त जी विछोटीअ ते ज़रूरी तपास ऐं नेमाइतो चेक​-अप कराइणु तमाम ज़रूरी हूंदो आहे ।
  • रतु जे दाबु॒ खे योग्य क़ाबूअ में रखणु किडनीअ खे थींदड़ नुक़िसान रोकण में ऐं किडनी ख़राब थियण जी रफितार घटाइण में मदद करे थो ।
  • पेट में सूर थिअे तड॒हिं किडनीअ खे नुक़िसान न करे, उन क़िसिम जी दवा द्वारां इलाजु (जींअ त अेस्पीरिन​, अेसीटो मीनोफेन वग़ैरह​) पी.के.डी. जे मरीज़नि में वक़्त​-बि-वक़्त पवंदड़ पेट में सूर सिस्ट वधण जे करे थींदो आहे ।
  • मूत्र मार्ग जी बीमारी (Infection) ऐं पथिरीअ जो तकिड़ो ऐं योग्य इलाजु ।
  • सोजु॒ न हुजे, अहिड़नि मरीज़नि खे वधीक पाणी पिअणु घुरिजे जेको पेशाब जी इन्फेक्शन , पथिरी ऐं गा॒ड़िहो पेशाब वगै़रह तकिलीफूं घटाइण में मददगार थींदो आहे ।
  • किडनी ख़राब थिअे तड॒हिं "किडनी फेल्यर जो इलाज​" इन विभाग में कयल गा॒ल्हि-बो॒ल्हि अनुसार परहेज़ पालिणी ऐं इलाज कराइणु तमामु ज़रूरी आहे ।
  • पेट में सूर​, इन्फेक्शन थियणु या पेशाब में रंडक पवण सां तमामु घटि मरीज़नि में सिस्ट जी सर्जरी (आपरेशन​) या रेडियोलोजीकल ड्रेनेज करण जी सलाह डि॒नी वेंदी आहे ।

पी.के.डी. जे मरीज़ खे डाक्टर जो संपर्क कड॒हिं करणु घुरिजे ?

पी.के.डी. जे मरीज़ खे यकिदम डॉक्टर जो संपर्क करणु घुरिजे, जेकड॒हिं :

  • बुख़ार​, ओचितो ई पेट में सूर या गा॒ड़िहो पेशाब अचे ।
  • तमाम तेज़ (घणो) ऐं हर घड़ीअ मेम मथे में सूर पवे ।
  • हादिसे जे करे वधी वियल किडनीअ खे ईज़ाउ पहुचे ।
  • छातीअ में सूर​, बुख न लग॒णु, तमाम घणियूं उल्टियूं थियणु, तमाम घणी क़मिज़ोरी महिसूस थियणु, समिझ​-शक्तिअ में फेरिफार थियणु, बेहोश थियण या ड॒किणी (Convulsion) थिअे त यकिदम डॉक्टर जो लागा॒पो करणु घुरिजे ।

स्त्रोत: किडनी एजुकेशन

2.93333333333
गडु समालोचना

पंहिंजो सुझाउ डियो

Enter the word
नेविगतिओन
Back to top