वंडो

किडनीअ जूं बीमारियूं

हिन भाग में किडनीअ जूं बीमारियूं जे बाबत जानकारी डि॒नियल आहे।

किडनीअ जे बीमारियुनि के मुख्य बिन ग्रुपनि में विरहाअे सघिजे थो ।

मेडीकल बीमारियूं:

किडनी फेल्यर , पेशाब जी विचिरंदड़ बीमारी (Infection) , नेफ्रोटिक सिन्ड्रोम , एक्यूट ग्लोमेरूलोन फ्राईटिस​, इन क़िस्म जे किडनीअ जे बीमारियुनि जो इलाज नेफ्रोलोजिस्ट दवा ज़रीये कंदो आहे । किडनी फेल्यर जे गंभीर मरीज़नि खे डायलिसिज़ ऐं किडनी ट्रान्सप्लान्टेशन जी ज़रूरत पिणु पइजी सघे थी ।

सर्जिकल बीमारियूं :

पथिरीअ जी बीमारी, प्रोस्टेट जी बीमारी, मूत्र मार्ग जी कैंसर इन क़िस्म जे बीमारियुनि जो इलाज युरोलाजिस्ट कंदो आहें ऐं आम तोर आपरेशन​, एन्डोस्कोपी, लिथोट्रीप्सी वग़ैरह जे इलाज जी ज़रूरत पवंदी आहे ।

नेफ्रोलोजिस्ट ऐं यूरोलोजिस्ट जे विच में कहिड़ो तफ़ावत आहे ?

किडनी जे माहिर फ़िज़िशियन खे नेफोलोजिस्ट चइजे थो ऐं किडनीअ जे माहिर सर्जन खे युरोलोजिस्ट चइजे थो ।

किडनीअ जूं मुख्य बीमारियूं

मेडीकल बीमारियूं

सर्जिकल बीमारियूं

अेक्यूट किडनी फेल्यर​

पथिरीअ जी बीमारी

क्रोनिक किडनी डिसीज़

प्रोस्टेट जी बीमारी

पेशाब जी विचिरंदड़ बीमारी

मूत्र मार्ग जी कैंसर

नेफोटिक सिन्ड्रोम

मूत्र मार्ग में जन्म खां वठी नुक़्स (ख़ामियूं )

किडनी फेल्यर

शरीर में ठहंदड़ ग़ैर ज़रूरी शयूं ऐं लूण जे अंदाज़ जो बैलेन्स किडनी विञाऐ छडे ऐं किडनीअ जी कमु करण जी शकित घटिजी वञे त उन खे किडनी फेल्यर चइजी थो । रत में क्रीअेटीनीन ऐं यूरिया जो अंदाज़ वधीक हुजे त उहो किडनी फेल्यर डेखारे थो ।

किडनी फेल्यर जा ब क़िस्म आहिनि :

(1) अेक्यूट किडनी फेल्यर (2) क्रोनिक किडनी फेल्यर

अेक्यूट किडनी फेल्यर

किडनीअ जो ओचितो ई कम करण् जी शक्तिअ जो घटिजी वञणु यानी अेक्यूट किडनी फेल्यर । अेक्यूट किडनी फेल्यर खे अेक्यूक किडनी इन्जरी पिणु चइबो आहे । अेक्यूट् किडनी फेल्यर वारनि घणनि मरीज़नि में पेशाब जो अदांज़ घटिजी वेंदो आहे । अेक्यूट किडनी फेल्यर थियण जा मुख्य कारण दस्त​, उल्टियूं, ज़हिरी मलेरिया, रत में विचरंदड़ बीमारी, रत जो दाबु ओचितो ई ओचितो घटिजी वञणु, कुझ दवाऊँ (अे. सी.इ. इनहीबीटर​, NSAIDS) वग़ैरह आहिनि । सही दवा ऐं ज़रूरत पवे त डायालिसिज़ जे इलाज सां हिन नमूने बिगिड़यल ब​ई किडनियूं वरी मुकमल कम कंदियूं थी वेंदियूं आहिनि ।

क्रोनिक किडनी फेल्यर

क्रोनिक किडनी फेल्यर में किडनीअ जी कमु करण जी शक्ति आहिस्ते आहिस्ते ऐं लंबे वक़्त ताईं, न सुधिरी सघनि इन नमूने बई किडनियूं ख़राब थियन थियूं लम्बे अरसे बइद किडनी अहिड़ी हालत ते पहुची वञे थी जो पंहिंजी समूरी कमु करण जी शक्ति विञाए छडे थी । किडनी संपूर्ण नमूने बंद थी वञे त उन हालत में बीमारी जान वठंदड़ थी वेंदी आहे ।

क्रोनिक किडनी डिज़ीज़ (सी.के.डी.) जे हिन आखिरी तबिक़े खे इ.अेस​.आर​.डी. (End Stage Renal Disease) चइबो आहे । सी.के.डी. जे शुरुआत जे तबिक़े में केतिराई दफ़ा का बि निशानी न डि॒सण में ईंदी आहे इन करे मरीज़ जो निदान थी न सघंदो आहे । हिन बीमारीअ जूं मुख्य निशानियूं सोज​, बुख घटि लगणु, दिल कची थियणु (हींओ फिरणु) कम़िज़ोरी लग॒णु, नंढीअ उम्र में रत जा मुख्य सबब डायबीटीज़, रत जो ऊचो दाबु॒, किडनीअ जूं जुदा जुदा बीमारियूं वग़ैरह आहिनि ।

क्रोनिक किडनी डिज़ीज़ जे निदान लाइ पेशाब में प्रोटीन जो हुअणु, रत में क्रीअेटीनिन ऐं युरिया जो अंदाज़ वधणु ऐं सोनोग्राफीअ में नंढी ऐं सुसियल किडनी लग॒णु, इहे ख़ास अहिमियत वारियूं निशानियूं आहिनि । रत में क्रिअेटीनिन ऐं यूरिया जो अंदाज़ किडनी केतिरे अदाज़ में ख़राब थी आहे, उन जो अंदाज़ बु॒धाअे थो । किडनी वधीक ख़राब थियण सां रत में क्रिअेटीनिन ऐं यूरिया जो अंदाज़ पिणु वधंदो वेंदो आहे ।

हिन बीमारीअ जे शुरुआती तबक़े में इलाज दवा ऐं खाधे में परहेज़ द्वारां कयो वेंदो आहे । अहिड़ो को बि इलाज कोन्हे, जेको हिन बिमारीअ खे मिटाअे सघे । हिन इलाज जो मक़सदु किडनीअ खे वधीक ख़राब थियण खां रोकणु ऐं दवा जी मदद सां मरीज़ जी तबियत थी सघे ओतिरे लम्बे वक़्त ताईं सुठी रखणु आहे ।

किडनी वधीक ख़राब थिअे (रवाज़ी तौर क्रिअेटीनिन 8-10 मि.ग्रा. % खां वधे तड॒हिं ) त दवाअ ऐं परहेज़ हूंदे बि मरीज़ जी तबियत बिगिड़ंदी वेंदी आहे । 90% खां वधीक किडनी पंहिंजी कमु करण जी शक्ति विञाए छडीं॒दी आहे । इन हालत में इलाज जा ब॒ विकल्प डायालिसिज़ ( रत जो डायालिसिज़ या पेट जो डायालिसिज़) ऐं किडनी ट्रान्सप्लानेशन आहिनि ।

डायालिसिज

ब॒ई किडनियूं वधीक ख़राब थियनि, तड॒हिं शरीर में गै़र ज़रूरी इख़राजी शयूं ऐं पाणियठु जो अंदाज़ वधी वञे थो इन्हनि शयुनि खे हथिराधू नमूने दूर रखण जी पद्वतीअ खे डायालिसिज़ चइजे थो । डायालिसिज़ किडनी फेल्यर खे दूर करे नथो सघे । किडनी फेल्यर जे आख़िरी तबक़े में मरीज़ खे सजी॒ ज़िन्दगी डायालिसिज़ कराइणो पवंदो आहे । (जेस्ताईं किडनी ट्रान्सप्लान्ट कामियाबीअ सां न कयो वञे , तेस्ताईं ) ।

डायालिसिज़ बि॒न क़िस्मनि सां करे सघिबो आहे ।

  • हिमोडायलिसिज़
  • पेरीटोनियल डायालिसिज़

हिमोडायालिसिज़ - रतु जो डायालिसिज़

हिन क़िस्म जे डायालिसिज़ में हिमोडायालिसिज़ मशीन जी मदद सां , हथिराधू किडनी (डायालाइज़र​) में रत खे साफ़ कयो वेंदो आहे । अे.बी. फिस्चयूला (केडबलल्युमेन केथेटर​) जी मदद सां शरीर मां साफ़ करण लाइ रतु दाख़िल कई वेंदी आहे । तंदुरस्ती बराबर रखण लाइ मरीज़नि खे नित नेम, हफ़्ते में बि॒न खां टे दफ़ा हिमोडायालिसिज़ कराइणु ज़रूरी आहे, जंहिं दरम्यानि मरीज़ बिस्तरे में रहंदे बि रवाजी कम (नास्तो करण​, पढ़िहणु, टी.वी. डि॒सणु वग़ैरह ) करे सघे थो । बाक़ाइदे हिमोडायालिसिज़ कराईंदड़ मरीज़ आम जीवन जी सघनि था ऐं फक़तु डायालिसिज़ लाइ थोड़ो वक़्तु इस्पताम में हिमोडायालिसिज़ युनिट में अचनि था । अजु॒ कल्ह हिमोडायालिसिज़ कराईंदड़ मरीज़नि जो अददु पेट जो डायालिसिज़ (सी.अे.पी.डी) कराईंदड़ मरीज़नि खां घणो वधीक आहे ।

पेरीटोनिअल डायालिसिज़ : पेट जो डायालिसिज़

हिन क़िस्म जो डायालिसिज़ मरीज़ पंहिंजो पाण मशीन खां सवाइ घर में करे सघे थो । सी. अे. पी. डी. में ख़ास क़िस्म जो नरम​, घणनि सोराख़नि वारो केथेटर नंढे आपरेशन द्वारां पेट में रखियो वेंदो आहे । हिन केथेटर ज़रीये (पी.डी. फल्यूड​) पेट में दाख़िल कयो वेंदो आहे । इहा पाणीयठ केतिरनि कलाकनि खां पोइ बा॒हिर निकिरी वेंदी आहे । हिमोडायालिसिज़ खां वधीक ख़र्च ऐं पेट जी बीमारीअ जो जोखम​, इहे सी.अे.पी.डी. जा मुख्य ब॒ नुक़िसान आहिनि ।

अेक्यूट ग्लोमेरूलोनेफ्राईटस​

कहिड़ी बि उम्र में नज़र ईंदड़ किडनीअ जी बीमारी बा॒रनि में वधीक नज़र ईंदी आहे । हीअ बीमारी रवाजी तरह गले जी बीमारी (खंघि) या चमड़ीअ जी बीमारीअ (फ़ट​- फु़रिड़यूं ) खां पोइ थींदी आहे । मुंह ते सोजु॒ थियणु ऐं पेशाब गा॒ड़िहो अचणु, इहे बिन बीमारिअ जूं मुख्य फरियादूं आहिनि ।

हिन बीमारीअ जी तपास दरम्यान रत जे दाब॒ में इज़ाफ़ो (वधी वञणु) , पेशाब में प्रोटीन ऐं गा॒ड़िहनि जुज़नि जी हाज़िरी ऐं केतिरा दफ़ा किडनी फेल्यर नज़र ईंदी आहे । घणे भाड़े बा॒रनि में सही दवा ज़रीये ऐं थोड़े वक़्त में ई हीअ बीमारी बिल्कुल ठीक थी वेंदी आहे ।

नेफ्रोटिक सिन्ड्रोम​

किडनीअ जी हिअ बीमारी पिणु बी॒ उम्र खां बा॒रनि में वधीक डि॒सण में ईंदी आहे । हिन बीमारीअ जी मुख्य शिकायत वक़्तु सोजु॒ अचणु (Edema) इहा आहे ।

हिन बीमारीअ जी ख़ासियत पेशाब में प्रोटीन वञणु, रतु जी रिपोर्ट में प्रोटीन घटिजी वञणु ऐं कोलेस्ट्रोल वधी वञणु, इहा आहे । हिन बीमारीअ में रतु जो दाबु॒ न वधंदो आहे ऐं किडनी खराब थियण जो इमिकान पिणु न जहिड़ो हूंदो आहे ।

दवा सां इलाज ज़रीये हीअ बीमारी दूर थी वेंई आहे पर वक़्तु-बि-वक़्तु बीमारीअ जो उथिली पवणुअ ऐं गडो॒गड॒ वरी सोज॒ अचणु, इहा नेफ्रोटिक सिन्ड्रोम जी ख़ासियत आहे । इन नमूने हीअ बीमारी लंबे अरिसे (केतिरनि सालनि ताईं ) हलंदड़ हुअण सबबु बा॒रु ऐं उन जे कुटुंब जे भातियुनि लाइ सबुर जी कसोटीअ समान थी पवंदी आहे । पर इहा गा॒ल्हि बि ख़ूब अहिमियत वारी आहे त लंबे अरिसे ताईं हिन बीमारिअ जे इलाज करण सां सुठो नतीजो मिलंदो आहे । नेफोटिक सिन्ड्रोम जा मरीज़ हिक साधारण ऐं तंदुरुस्त ज़िन्दगी जीअनि था ।

पेशाब जी बीमारी

पेशाब में साड़ो थियणु, हर घड़ी पेशाब करण लाइ वञणु, पेट में सूर थियणु, बुख़ार अचणु वग़ैरह पेशाब जे बीमारीअ जूं मुख्य निशानियूं आहिनि । पेशाब जी तपास में रोग॒ जी हाज़िरी हिन बीमारीअ जि निदान बु॒धाअे थी ।

घणे भाड़े मरीज़नि में दवा सां हीअ बीमारी मिटजी वेंदी आहे । बा॒रनि में हिन बीमारीअ जे इलाज में ख़ास ख़बरदारीअ रखिणी पवंदी आहे । बा॒रनि में पेशाब जी बीमारीअ जी देर सां ऐं ग़लत इलाज जे करे किडनीअ में सुधारे न सघिजे अहिड़ो गंभीर नुक़सान थियण जो ख़तिरो रहे थो । वक़्त​-बि-वक़्त पेशाब जी बीमारी थींदी हुजे, अहिड़नि मरीज़नि में मुत्र मार्ग में रंडक​, पथिरी, मूत्र मार्ग जी.टी.बी. वग़ैरह जी तपास कराइण तमाम ज़रूरी आहे । बा॒रनि में वक़्त​-बि-वक़्त पेशाब जी बीमारी थियण जो मुख्य सबबु वसाइको युरेथ्रल रीफ्लक्स (वी.यु.आर​.) आहे । वी.यु.आर​. में मसाने ऐं पेशाब वाहिनीअ जे विच में आयल वाल्व में जन्म खां वठी (जा॒ए ज॒मा खां) ख़ामी हूंदी आहे, जंहिं करे पेशाब मसाने (Bladder) मां उल्टो पेशाब वाहिनीअ में , किडनी डां॒हुं वेंदो आहे ।

पथिरीअ जी बीमारी

पथिरी इहा घणनि मरीज़नि में ईंदड़ हिक किडनीअ जी ख़ास बीमारी आहे । पथिरी रवाजी तरह किडनी, पेशाब वाहिनी ऐं मसाने में थींदी डिसण में ईंदी आहे । पेट में बेहद सूर थियण , उल्टियूं थियणु, दिल कची थियणु, पेशाब गाड़िहो अचणु वग़ैरह निशानियूं पथिरीअ जी बीमारी बुधाइनि थियूं । केतिरनि मरीज़नि में पथिरी हूंदे पिणु थोड़ो बि सूर न पवंदो आहे , उन खे (Silent Stone) चइबो आहे ।

पेट जो अेक्स - रे ऐं सोनोग्राफी पथिरीअ जी तपास लाइ ख़ास अहिमियत जूं तपासूं आहिनि । नंढी पथिरी वधीक पाणी पीअण सां क़ुदरती नमूने ई निकिरी वेंदी आहे ।

जेकडहिं पथिरीअ जे करे हर घड़ी सही न सघिजे ऐतिरो सूर पवंदो हुजे, पेशाब में वक़्त -बि-वक़्त रतु या रोगु (Pus) ईंदो हुजे, मूत्र मार्ग में रंडक थींदी हुजे या किडनीअ खे नुक़सान थींदो हुजे त उहा पथिरी कढाइण तमामु ज़रूरी बणिजे थी ।

पथिरी कढाइण लाइ रवाजी तोर कमु ईंदड़ पद्वतियुनि में लिथोट्रीप्सी, एन्डोस्कोपी (दूरबीन​) (पी. सी. अेन​. अेल​., सिस्टोस्कोपी ऐं युरेटरोस्कोपी ) द्वारां इलाज ऐं आपरेशन ज़रीये पथिरी कढाइणु वग़ैरह आहिनि । 80% मरीज़नि में पथिरी वरी बि थी सघंदी आहे । तंहिंकरे हमेशह पाणीयठ ऐं पाणी वधीक वठणु ऐं खाधे में परहेज़ करणु ऐं सूचना अनूसार डाक्टर खां तपास कराइण ज़रूरी आहे ।

प्रोस्टेट जी बीमारी बी. पी. एच​. (बिनाइन प्रोस्टेटिक हाईपर प्लासिया )

प्रोस्टेट जो ग़दूद (Gland) फक़त मर्दनि में ई हूंदो आहे । मसाने मां पेशाब बाहिर खणी वेंदड़ नली पेशाब वाहिनीअ जो शुरूआत जो हिस्सो प्रोस्टेट ग़दूद जे विच मां लंघंदो आहे ।

वडी उम्र में मर्दनि में प्रोस्टेट जो क़दु वधी वञण करे पेशाब लाहिण में थींदड़ तकलीफ खे बी.पी.एच​, चइजे थो । राति जो हर घड़ी पेशाब करण लाइ वञणु, पेशाब जो वहिकिरो छिड़ो अचणु, ज़ोर लगाइणु खां पोइ ई पेशाबु लहणु वगै़रह शिकायतूं बी. पी. एच​. जी तकलीफ बुधाईनि थियूं ।

बी.पी.एच​. जे शुरूआती तबक़े जो इलाज दवा द्वारां कबो आहे । दवा करण खां पोइ बि संतोषकारक सुधारो (फाइदो) न थिऐ त उन हालत में , किनि मरीज़नि में दूरबीन ज़रीये इलाज (टी.यु.आर​.पी.) लाज़िमी बणिजंदो आहे ।

स्रोत : किडनी एजुकेशन

3.06976744186
गडु समालोचना

पंहिंजो सुझाउ डियो

Enter the word
Back to top