অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

किडनीअ जे बीमारियुनि खे रोकण जा उपाव​

किडनीअ जूं बीमारियूं तमामु गंभीर हुअण सबबु उहे किडनीअ जी कम करण जी शक्तिअ खे सिलसिलेबार घटाऐ सघंदियूं आहिनि ऐं पोइ किडनी फेल्यर थी पवंदी आहे । इन हालत में डायालिसिज़ या किडनी ट्रान्सप्लांट रवाजी ज़िन्दगी जीअण लाइ लाज़िमी थी पवंदो आहे । किडनीअ जूं केतिरियूं बीमारियूं तमाम गंभीर हूंदियूं आहिनि ऐं जेकड॒हिं उन्हनि जी तपास (निदान​) देरि सां थिऐ थो त पोइ उन हालत में को बि इलाज असिराइतो नथो थिऐ । क्रोनिक किडनी फेल्यर पोअें (आख़िरी) तबक़े जो इलाज तमामु ख़रिचाअू ऐं सभिनी जायुनि ते सविलाईअ सां न थी सघण सां फक़ति 5-10% मरीज़ इहो इलाजु हासिल करे सघनि था ऐं बाक़ी मरीज़ केतिराई दफ़ा मुकमल या मुनासिब (बराबर​) इलाज न मिलण करे मौत जो शिकार बणिजनि था । क्रोनिक किडनी फेल्यर तमाम रवाजी आहे ऐं उन जो को ख़ास इलाजु न हुअण सबबु असां फक़तु उन खे अटिकाअे सघूं था । तकड़ी तपास (निदान​) ऐं सही इलाज मिलण सां क्रोनिक किडनी फेल्यर खे वधीक ख़राब थियण खां रोके सघिजो थो ऐं डायालिसिज़ या ट्रान्सप्लांट जी ज़रूरत पिणु घटाअे सघिजे थी । इन करे “Prevention is better than cure” पहाके ते अमलु करण तमामु ज़रूरी आहे ।

किडनीअ जे बीमारियुनि खे कहिड़े नमूने रोकिजे ?

कड॒हिं बि पंहिंजी किडनीअ खे नज़र अंदाज़ु न कजे । किडनीअ बाबतु हरहिकु माण्हूअ खे जा॒ण हुअणु ज़रूरी आहे, जंहिं ते मुख्य बि॒नि हिस्सनि में बहस मुबाहिसो (चर्चा) करे सघिजे थो ।

  • आम माण्हूअ लाइ सुचिनाऊँ
  • बीमारीअ जी हाज़िरीअ में ज़रूरी संभाल

आम माण्हूनि लाइ सुचिनाऊँ

किडनीअ खे तंदुरस्त रखण लाइ सत असिराइतियूं सूचिनाऊँ हिन रीत आहिनि :

  1. तंदुरस्त ऐं क्रियाशील रहणु
  2. रोज़ानो नियम सां कसरत करणु ऐं रवाजी कम करण सां रतु जो दाबु॒ ऐं खंडि जो अंदाज़ क़ाइम रखी सघिजे थो । नेमाइती कसिरत सां डायालिसिज़ ऐं ब्लड​-प्रेशर जो जोखम घटिजे थो ऐं उहो क्रोनिक किडनी फेल्यर जो ख़तिरो घटाअे थो ।

  3. हम वज़िनी खाधो (Balanced Diet)
  4. मुनासिब हम वज़िनी खाधो, ताज़ियूं भाजि॒यूं ऐं फल खाइणु । खाधे में खंडि वारो, चरिबी॒अ वारो खाधो ऐं मांस​-मछी घटि खाइणु । 40 सालनि जी उम्र खां पोइ खाधे में लूण जो अंदाज़ घटि वठण सां वधीक ब्लड प्रेशर ऐं किडनीअ में पथिरीअ जी तकिलीफ खे रोके सघिजे थो ।

  5. वज़न ते ज़ाबितो रखणु
  6. हम वज़िनी खाधो ऐं नेमाइती कसिरत सां वज़न ते ज़ाबितो रखी सघिजे थो ऐं ईंअ करण सां डायाबिटीज़, दिल जी बीमारी ऐं किडनीअ जे बीमारियुनि खे रोके सघिजे थो ।

  7. तमाकु छिकणु, तमाकु, गुटिका, शराब जो त्यागु॒ करण​
  8. तमाकु छिकण जे करे शरियानियुनि में चरिबी॒ जमा (गडु॒) थींदी आहे जंहिं करे किडनीअ में रतु जो वहिकिरो घटिजी वेंदो आहे ऐं किडनीअ जी कमु करण जी शक्ति घटिजी वेंदी आहे ।

  9. ग़ैर ज़रूरी सूर जूं दवाऊँ न वठिणियूं
  10. गै़र ज़रूरी सूर जूं दवाऊँ डाक्टर जी सलाह खां सवाइ न वठिणियूं । केतिरियूं सूर जूं दवाऊँ (जीअं त आइबूप्रोफेन​) किडनीअ खे नुक़सान कनि थियूं ऐं घणे वक़्त ताईं बाक़ाइदे वठण सां किडनी फेल्यर पिणु कनि थियूं । इन करे पंहिंजी किडनीअ खे ख़तिरे में न विझी डाक्टर जी सलाह मूजिब सूर लाइ दवा वठणु ज़रूरी आहे ।

  11. वधीक अंदाज़ में पाणी पीअणु
  12. रोज़ानो 3 लिटरिनि खां वधीक (10-12 गिलास​) पाणी पीअणु (सोजु॒ न हुजे अहिड़नि माण्हुनि खे) , जंहिंकरे पेशाब घुरिबल अंदाज़ में अचे थो ऐं शरीर मां ग़ैर ज़रूरी शयुनि जो नेकाल थिऐ थो ऐं पथिरीअ जो इमकान नथो रहे ।

  13. रूटीन हेल्थ चेकअप
  14. 40 सालनि खां पोइ का बि तकिलीफ न हूंदे पिणु हर साल हेल्थ चेक​-अप कराइण सां रतु जो ऊचो दाबु॒ डायाबिटीज़, किडनीअ जी बीमारी वग़ैरह जी तपास (निदान​) के बि निशानियूं न हुजनि, उन हालत में पिण सवेल ई थी सघे थी । डायाबिटीज़ ऐं रतु जो ऊचो दाबु॒ मौरोसी (वरिसे वारियूं ) बीमारियूं हुअण सबबु, जंहिं माण्हूअ जे कुटुंब में इहे बीमारियूं हुजनि, अहिड़नि माण्हुनि खे हिक या हर बीं॒ सालें चेक -अप कराइण तमाम ज़रूरी आहे । हिन क़िस्म जे बीमारीअ जो सवेल ई मुनासिब इलाजु, भविष्य में किडनीअ खे थींदड़ नुक़सान जे इमकान खे घटाअे या रोके सघे थो ।

किडनीअ जे मरीज़नि लाइ ख़बरदारियूं

  1. किडनीअ जी बीमारीअ बाबतु सुजागी॒ ऐं तकिड़ी तपास (निदान​)
  2. मुंहं ऐं पेरनि ते सोजु॒, खाधो न वणणु, दिल कची थियणु, रतु में फिकाइप​, घणे वक़्त खां कमिज़ोरी, राति जो घणा दफ़ा पेशाब लाइ वञणु, पेशाब में तकिलीफ हुअण वग़ैरह निशानियूं किडनीअ जी बीमारीअ जे करे थी सघनि थियूं । अहिड़ी तकलीफ वारनि माण्हुनि खे यकिदम डाक्टर खां तपास कराइणु घुरिजे । किडनीअ जी बीमारीअ जी तकिड़ी तपास (निदान​) बीमारीअ खे दूर करण लाइ, रोकण या क़ाबूअ में आणण लाइ तमाम अहिमियत वारी आहे । कंहिं बि निशानीअ जी गै़र हाजिरीअ में बि पेशाब में प्रोटीन जो रखणु आङे ।

  3. मौरोसी बीमारी (Hereditary) पी.के. डी. जो तकिड़ो निदान ऐं इलाज​
  4. आटोसोमल डोमीनन्ट पोलिसिस्टीक किडनी डिजीज़ (पी.के.डी.) तमामु आम जाम ऐं गंभीर किडनीअ जी ऐं मौरोसी बीमारी आहे, जेका डायालिसिज़ कराईंदड़ 6-8% मरीज़नि में डि॒सण में ईंदी आड़े । इन करे कुटुंब में जेकड॒हिं हिक माण्हूअ खे हीअ बीमारी (पी.के.डी.) हुजे त डाक्टर जी सलाह मूजिबु कुटुंब जे बि॒यनि भातियुनि में हिन बीमारिअ जी का तकिलीफ त न आहे, उन जो निदान कराइणु ज़रूरी आहे । सवेल ई निदान कराइण बइद खाधे में परहेज़, रतु जे दाब॒ ते क़ाबू ऐं पेशाब जी बीमारी ऐं बि॒ऐ इलाज जी मदद सां किडनी ख़राब थियण जी रफितार ढिली करे सघिजे थी ।

  5. बा॒रनि में मुत्र मार्ग जी बीमारीअ जो सही इलाज​
  6. जेकड॒हिं बा॒र खे वक़्त​-बि-वक़्त बुखार ईंदो हुजे, बार बार पेशाबु ईंदो हुजे, पेशाब में साड़ो या सूर थिंदो हुजे, खाधे में रुचि न रखे या वज़न वधंदो न हुजे त उन लाइ मूत्र मार्ग जी बीमारी जवाबदार थी सघे थी । इहो याद रखणु तमामु ज़रूरी आहे त मूत्र मार्ग जी बीमारी, ख़ास करे बुख़ार सां , किडनीअ खे नुक़सान पहुचाइण लाइ वडो॒ जोखमु आहे । ख़ास करे जेकड॒हिं निदान न करायो वञे, देरि सां इलाजु करायो वञे या अणपूरो इलाजु करायो वञे इन क़िस्म जे नुक़सान जे करे सालनि खां पोइ आहिस्ते-आहिस्ते किडनी बिगड़िजंदी वेंदी, उन जो डपु रहो थो । (बालिग़ अवस्था में मूत्र मार्ग में बीमारीअ जे करे किडनीअ में सुधिरी न सघे अहिड़ो नुक़सान रवाजी तरह न थींदो आहे ) इन खां सवाइ पेशाब जी बीमारी थी हुजे अहिड़नि नंढी उम्र वारनि बा॒रनि मां अधि जेतिरनि बा॒रनि में बीमारी थियण लाइ जनम खां वठी विड॒ (ख़ामी) या तकिलीफजवाबिदार हूंदी आहे । इन्हनि हालतुनि में वक़्तसिर जो सही इलाज न मिलण सां किडनी ख़राब थियण जो ख़तिरो रहे थो । रवाजी तरह 50% बा॒रनि में बीमारी थियण जो कारण वसाईको यूटट्रल रिफलक्स थी सघे थो । थोड़े में बा॒रनि में किडनी ख़राब थियण खां रोकण लाइण मूत्र मार्ग जी बीमारीअ जो तकिड़ो निदान ऐं इलाज ऐं बीमारी थियण लाइ कारणनि जो निदान ऐं इलाज तमामु ज़रूरी आहे ।

  7. बालग़ु अवस्था में हर घड़ी थींदड़ पेशाब जी बीमारीअ जो योग्य इलाज
  8. कंहिं बि उम्र में पेशाब जी बीमारी हर घड़ी (वक़्त​-बि-वक़्त​) थींदी हुजे या दवा सां क़ाबूअ में न ईंदी हुजे त उन जो कारणु गो॒ल्हणु ज़रूरी आहे । इहे कारण (जहिड़ोकि मूत्र मार्ग में रुकावट , पथिरी वग़ैरह ) जो वक़्तसरि योग्य इलाजु किडनीअ खे थींदड़ नुक़सान थियण में अहिमियत जो पार्ट अदा करे थो ।

  9. पथिरी ऐं बी.पी.एच​. जो योग्य इलाज
  10. केतिरा ई दफ़ा किडनी या मूत्र मार्ग में पेशाब जो निदान (तपास​) थियण खां पोइ बि उन जे करे ख़ास तकिलीफ थींदी न हुजे त मरीज़ उन जे इलाज डां॒हुं लापरवाह थी वञनि था । अहिड़े ई नमूने वडी॒ उम्र में थींदड़ प्रोस्टेट जी तकिलीफ बी.पी.एच​. जे करे नज़र ईंदड़ निशानियुनि डां॒हुं मरीज़ ध्यान ऐं संभाल नथा रखनि, अहिड़नि मरीज़नि में लम्बे अरिसे बइद किडनीअ खे नुक़सान थियण जो ख़तिरो हुअण सबबु डाक्टर जी तकिड़ी सलाह वठी ऐं उन मूजिब इलाजु कराइणु ज़रूरी आहे ।

  11. नंढीअ उम्र में रतु जे ऊचे दाब॒ जी तपास
  12. रवाजी तरह 30 सालनि खां नंढी उम्र वारनि माण्हुनि में रतु जो ऊचो दाबु॒ डि॒सण में न ईंदो आहे । नंढी उम्र में रतु जे वधीक उचे दाब॒ जो ख़ास सबबु किडनीअ जी बीमारी आहे । तंहिं करे अहिड़नि सभिनी माण्हुनि खे किडनीअ जी तपास कराइणु तमामु ज़रूरी आहे जंहिंकरे असां उन जो योग्य निदान ऐं इलाजु कराअे सघुं ऐं किडनीअ खे बचाऐ सघुं ।

  13. अेक्यूट किडनी फेल्यर जे कारणनि जो सवेल इलाज​
  14. ओचितो ई ओचितो किडनी ख़राब थियण जे मुख्य कारणनि में दस्त​-उल्टियूं, ज़हिरी मलेरिया, वधीक रतु जो वहणु, रतु में गंभीर बीमारी, मूत्र मार्ग में रुकावट वग़ैरह अची वञनि था । इन्हनि सभिनी कारणनि जो सवेल​, योग्य ऐं संपूर्ण इलाज किडनीअ खे ख़राब थियण खां बचाऐ थो ।

  15. डाक्टर जी सलाह मूजिब ई दवा जो उपयोग
  16. रवाजी तरह वठण में ईंदड़ दवाउनि मां केतिरियूं दवाऊँ (जहिड़ोक सूर जूं दवाऊँ) लम्बे अरिसे ताईं वठण सां किडनीअ खे नुक़सान थियण जो डपु रहे थो । अहिड़युनि दवाउनि लाइ इश्तिहार वधीक डि॒सण में अचनि था, पर उन जे नतीजनि जी जा॒ण लिकाई वञे थी । तंहिं क्रे ग़ैर ज़रूरी दवाऊँ वठणु टाड़णु घुरिजनि ऐं ज़रूरी दवाऊँ डाक्टर जी सलाह मुजिबु जो डोज़ (अंदाज़​) ऐं डाक्टर जे बु॒धायल वक़्त ताईं वठणु सलाह भरियो आहे । गै़र ज़रूरी मथे ऐं शरीर जे सूर जूं दवाऊँ न वठणु घुरिजनि । सभु आयुर्वेदिक दवाऊँ सलामत आहिनि, इहा मञिता बि ग़लत आहे । केतिरियूं गोरियूं भस्म वारियूं दवाऊँ किडनीअ खे गंभीर नुक़सान करे सघनि थियूं ।

  17. हिक ई किडनीअ वारनि माण्हुनि लाइ ख़बरदारियूं
  18. हिक ई किडनीअ वारा माण्हू पिणु रवाजी ज़िन्दगी जी सघनि था, पर उन्हनि खे कुझ ख़बरदारी रखणु सलाह भरियो आहे । उन्हनि खे ब्लड प्रेशर ते क़ाबू रखणु, वधीक अंदाज़ में पाणियठ वठणु, हम वज़िनी खाधो खाइणु, घटि खाइणु, प्रोटीन जो अंदाज़ पिणु घटि वठणु ऐं किडनीअ खे को बि ईज़ाउ न पहुचे, उन जी संभाल रखणु ज़रूरी हूंदो आहे । इन्हनि सभिनी गा॒ल्हियुनि जो ध्यान रखण खां सवाइ नियम सां (Regularly) मेडीकल चैक​-अप कराइणु तमाम ज़रूरी आहे । अहिड़नि माण्हुनि खे पाणी वधीक पीअणु , पेशाब या बी॒अ बीमारीअ जी वक़्तसिर तपास कराइणु ऐं ज़रूरत महिसूस थिऐ त सोनोग्राफी कराऐ नेमाइतो डाक्टर खे डे॒खारणु तमामु ज़रूरी आहे ।

स्रोत : किडनी एजुकेशन



© 2006–2019 C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
English to Hindi Transliterate